YouTube

चाय पिने से होते है ये खतरनाक बीमारियां, आज ही चाय पीना करे बंद


हमारे देश भारत में ७५ से ८५ प्रतिशत लोगों के दिन की शुरुवात चाय के कप के साथ होती है. चाय के बिना हमारी सुबह नहीं होती. चाय पीना एक आदत बन चूका है. बेड टी का कल्चर केवल शहरो में नहीं बल्कि गाँव दिहातो में भी पसंद कीया जाता है. चाय में मौजूद कैफीन और टैनिन तत्त्व हमारे शरीर में उर्जा प्रदान करने का काम करता है. चाय पिने के बाद हम तरो – ताजा महसूस करते है. पर आपको बता दें की अधिक चाय पिने या खाली पेट चाय पिने से हमारे शरीर को बहुत नुकशान भी पहुंचता है. तो चलिए जानते है की चाय पिने से क्या – क्या नुकशान होता है.


पेट की समस्या: चाय अम्लीय होता है. चाय पिने से हमारे पेट में एसिड की मात्रा बढ़ जाती है. जिसके चलते खाना सही तरीके से नहीं पच पाता. और गैस की समस्या उत्तपन होने लगती है. पाचन तंत्र ख़राब होने से पेट में जलन, उल्टी आदि जैसी परेशानियाँ होने लगती है. और खाली पेट कभी भी चाय नहीं पीना चाहिए. खाली पेट चाय पिने से मिचली आना और घबराहट होने जैसी समस्या शरीर में पनाह लेने लगती है. इसलिए चाय के साथ बिस्कुट, नमकीन, स्नैक्स आदि जैसी खाने की चीजे जरुर लेनी चाहिए.


कोलेस्ट्रोल की मात्रा बढ़ना: एक शोध से पता चला है, की चाय पिने से शरीर में कोलेस्ट्रोल की मात्रा अधिक बढ़ जाती है. और खून में कचरा जमा होने लगता है. साथ ही हार्ट तक खून सही तरीके से नहीं पहुच पाता है. अंत में आपको हार्ट की प्रॉब्लम हो जाती है. इसलिए चाय नहीं पीना चाहिए. 


जोड़ो के दर्द की वजह: अगर आपको हाथ – पैर में दर्द, जोड़ो के दर्द की समस्या है, तो आज ही चाय पीना छोड़ दें, चाय का असर सीधे हमारी हड्डियो पर पड़ता है. जिसके चलते हड्डिया कमजोर होने लगती है. और गलने लगती है. यही वजह है की आधा से ज्यादा लोगो को जोड़ो का दर्द, कमर दर्द आदि जैसी समस्या होती है.


ब्लड प्रेस्सर हाई होना:  चाय पिने से हमारा ब्लडप्रेशर तुरंत हाई हो जाता है. जिन्हें लो - ब्लड प्रेशर की परेशानी है, उनके लीये चाय ठीक है. क्योकि ठंड के मौसम में या ठंडे इलाकों में रहने वाले लोगो का ब्लड प्रेशर लो हो जाता. चाय पिने से ब्लडप्रेशर के रोगी को राहत मिलती, लेकिन अन्य लोगो के लिए चाय जहर के समान है. ब्लडप्रेशर जैसी बीमारियों से बचे रहने के लिए चाय से परहेज करे. 


कैंसर का खतरा: जो लोग दिन मे ४ – ५ बार चाय पिते है, उन्‍हे प्रोस्‍टेट कैंसर होने की संभावना बढ़ जाती है, कई शोधो में दावा किया गया है, की गर्म चाय पिने से खाने की नली और गले के कैंसर का खतरा आठ गुना बढ़ जाता है. आपको बतादें की तेज गर्म वाली चाय गले की टिसुस को बहुत नुक्सान पहुचाती है. 

महत्वपूर्ण टिप्स

  • चाय को बार – बार गर्म करके न पिए.
  • चाय पिने से होने वाले नुक्सान से बचने के लिए चाय मे शक्कर की जगह गुड का उपयोग      करे.
  • जितना हो सके ब्लैक टी का सेवन करे, चाय में दूध न डाले.
  • अन्य - चाय के पानी से बाल धोने से बाल गिरना बन्द होते हैं.
  • ग्रीन टी का सेवन करे, ग्रीन टी वजन कम करने में प्रभावकारी है। यही नहीं ग्रीन-टी कैंसर से लड़ने में भी आपकी मदद करता है.
  • सुबह उठते ही चाय की जगह पानी पिएं और उसके आधे घंटे बाद ही चाय लें।
  • चाय को अत्यधिक उबालकर या कड़क करके पीना सबसे बड़ी गलती है। यह तरीका एसिडिटी की वजह बनता है
  • खाना खाने के ठीक बाद चाय कभी ना पिए, इससे खाना सही तरीके से नहीं पच पाता है.
तो उम्मीद करता हु आपको समझ में आ गया होगा की चाय हमारे लिए कितना हानिकारक है. इस लेख को सबके साथ शेयर कीजिये, ताकि सभी को इसकी जानकारी मिले. 

Post a Comment

0 Comments